Monday, June 29, 2015

कहानी आपको पसन्द आई ? हां, तो इतना फेलावो की देश मे जातीवाद ही खत्म हो जाये

एक दिन एक पौराणिक पंडित को प्यास लगी, संयोगवश घर में पानी नही था इसलिए पंडिताईन पडोस से पानी ले आई I पानी पीकर पंडित जी ने पूछा....

पंडित जी - कहाँ से लायी हो ठंडा पानी है I
पंडिताईन- पडोस के कुम्हार के घर सेI (पंडित जी ने यह सुनकर लोटा फैंक दिया और उनके तेवर चढ़ गए वह जोर जोर से चीखने लगा )

पंडित जी- अरी तूने तो मेरा धर्म भ्रष्ट कर दिया, कुम्हार के घर का पानी पिला दिया।
पंडिताईन भय से थर-थर कांपने लगी, उसने पण्डित जी से माफ़ी मांग ली I

पंडिताईन- अब ऐसी भूल नही होगी। शाम को पण्डित जी जब खाना खाने बैठे तो पंडिताईन ने उन्हें सुखी रोटिया परोस दी I

पण्डित जी- साग नही बनाया ?
पंडिताईन- बनाया तो था लेकिन फैंक दिया क्योंकि जिस हांड़ी में बनाया था वो कुम्हार के घर से आई थी।
पण्डित जी- तू पगली है क्या कंही हांड़ी में भी छुत होती है ? यह कह कर पण्डित ने दो-चार कौर खाए और बोले की पानी ले आओ I
पंडिताईन जी - पानी तो नही है जीI
पण्डित जी- घड़े कहाँ गए है I
पंडिताईन- वो तो मेने फैंक दिए क्योंकि कुम्हार के हाथ से बने थे I
पंडित जी ने दो-चार कौर और खाए और बोले दूध ही ले आओ उसमे रोटी मसल कर खा लूँगा I
पंडिताईन- दूध भी फैंक दिया जी क्योंकि गाय को जिस नौकर ने दुहा था वो तो नीची जाति से था न I
पंडित जी-हद कर दी तूने तो यह भी नही जानती की दूध में छूत नही लगती है I
पंडिताईन-यह कैसी छूत है जी जो पानीमें तो लगती है, परन्तु दूध में नही लगती।

पंडित जी के मन में आया कि दीवार से सर फोड़ ले। गुर्रा कर बोले- तूने मुझे चौपट कर दिया है जा अब आंगन में खाट डाल दे मुझे अब नींद आ रही है I
पंडिताईन- खाट! उसे तो मैने तोड़ कर फैंक दिया है क्योंकि उसे नीच जात वाले ने बुना था I
पंडित जी चीखे - सबमें आग लगा दो, घर में कुछ बचा भी है या नही I
पंडिताईन- हाँ यह घर बचा है, इसे अभी तोडना बाकी है क्योंकि इसे भी तो पिछड़ी जाति के मजदूरों ने बनाया है I पंडित जी के पास कोइ जबाब नही...

कहानी आपको पसन्द आई तो इतना फेलावो की देश मे जातीवाद ही खत्म हो जाये।

Featured Post

World Population Day Essay English And Hindi 2015

  World Population Day Essay English T oday , population explosion is one of the major concerns of the world. As this issue of uncon...


Blog Archive